5.49K Views Comments

आज का बाबा जी का सत्संग आज डेरा ब्यास में पूरे 54 मिनट सत्संग किया और बाबा जी ने अकेले सत्संग किया मतलब कि आज बाबाजी के साथ पार्टी साहब नहीं थे बाबा जी के सत्संग की शुरुआत कर्मों से की बाबाजी ने बताया कि प्रमाद की न्यू कर्मों के आधार पर रखी गई थी और हम जैसे कर्म करेंगे वैसा ही फल हमें मिलेगा और जहां तक बात किस्मत की है किस्मत भी हमारे कर्मो पर निर्भर करती है

हम जैसे कर्म करते हैं वैसे ही हमारी किस्मत बनती है मगर कर्मों का फल उस मालिक के हाथ में है बाबा जी के सत्संग फरमाया कि कर्मों के जाल से कोई नहीं बच सकता है हमें कर्मों का हिसाब किताब देना पड़ेगा अगर हम भजन बंदगी करते हैं तो इन कर्म का प्रभाव हम पर नहीं पड़ता उदाहरण के तौर पर बाबा जी ने बताया कि जैसे कि एक छोटा बच्चा है अगर हम उसको थप्पड़ मारते हैं तो उसका बहुत दर्द होती है अगर हम बड़े आदमी को वैसे ही थप्पड़ मारे तो उसको दर्द कम होगी क्योंकि मजबूत है ऐसे ही भजन बंदगी हमें मजबूत बनाती है और हम पर ग्रहों का प्रभाव नहीं पड़ता और साथ ही बाबा जी ने बताया कि कुछ लोग यह समझते हैं कि अगर हमने बुरे कर्म कर लिया है तो क्या दान पुण्य कर देंगे बाबाजी ने बताया कि बुरे कर्मों का फल मुल्क से मिलेगा अच्छे कर्मों का फल अलग से और बाबा जी ने बताया कि कर्मों में फेरबदल नहीं हो सकती.

Read this?   Radha Soami Legacy of Love YouTube

सब को अपने कर्मों का हिसाब किताब देना पड़ेगा इसलिए कोई भी काम करने से पहले सोचो विचारों की सही क्या है और गलत क्या है और बाबा जी ने सत्य फरमाया कि हमारी गलतियां हमें बताती हैं कि हमें करना क्या है लेकिन हम अपने गलतियों को केवल रखते हैं उन्हें समझते नहीं हमारी ग्रंथ हमारे महापुरुषों की जिंदगी का निचोड़ है और बाबा जी ने यह भी कहा कि पानी में केवल एक ही है बाकी सब तो बताया गया है कि उस हुक्म का पालन कैसे करनी है वह क्या है एक नाम है नानक नानक दिया बुझा दिया और बाकी जो भी करना है मरने के बाद आपको किसी ने एमबीए की डिग्री नहीं देनी.

Read this?   खुशी और संतोष का रहस्य - एक दिलचस्प कहानी

बाबा जी ने कहा कि इंसान तो अपनी जिंदगी का लक्ष्य भूल गया है उसे तो बस पैसे कमाना ही अपनी जिंदगी का लक्ष्य मालूम होता है और फिर बाबा जी ने मुस्कुरा कर कहा कुछ लोगों पता नहीं कौन सी किताबें पढ़कर आ जाते हैं कि बाबा जी ने तो इतनी रूह को प्यार करना है ताकि वह अपना मतलब की बात पढ़ लेते हैं वह साथ में लिखा हुआ नहीं पड़ती अगर भजन बंदगी करेंगे तो साथ लेकर जाएंगे और फिर बाबा जी ने कहा कि हम भजन बंदगी को निभा सकते लेकिन अपने बर्तन को साफ रखने की कोशिश तो कर सकते हैं बड़े करने की जिम्मेदारी उसकी है.

Read this?   जिन्दगी में अनुभव और आत्मज्ञान का महत्व - एक प्रेणादायक कहानी

और अंत में बाबा जी ने फरमाया कि आपको जो भी मिलेगा आपकी करने का ही मिलेगा और अपने अंदर ही मिलेगा भाई सत्संग सुनने से कम नहीं खत्म हो सकते सेवा करने से कर्म नहीं खत्म हो सकते कर्म तो केवल नाम की कमाई और शब्द की कमाई से ही खत्म हो सकती हैRadha Soami Ji

Please share this Story/Video on: