2.11K Views Comments

लड़कियां बड़ी लड़ाका होती हैं…

मैंने देखा एक लड़की महिला सीट पर बैठे पुरुष को
उठाने के लिए लड़ रही थी
तो दूसरी लड़की
महिला – कतार में खड़े पुरुष को
हटाने के लिए लड़ रही थी

मैंने दिमाग दौड़ाया
तो हर ओर लड़की को लड़ते हुए पाया

जब लड़की घर से निकलती है
तो उसे लड़ना पड़ता है
गलियों से राहों से
सैकड़ों घूरती निगाहों से

लड़ना होता है तमाम अश्लील फब्तियों से
एकतरफा मोहब्बत से
ऑटो में सट कर बैठे किसी बुजुर्ग की फितरत से

उसे लड़ना होता है
विडंबना वाले सच से
टीचर के बैड टच से

वह अपने आप से भी लड़ती है
जॉब की अनुमति न देने वाले बाप से भी लड़ती है

Read this?   Sewa Sant! Nice Radha Soami Sakhi 2016

उसे हमेशा यह दर्द सताता है
चार बड़े भाइयों के बजाय पहले मेरा डोला क्यों उठ जाता है

वह स्वाभिमान के बीज बोने के लिए लड़ती है
खुद के पैरों पर खड़े होने के लिए लड़ती है

वह शराबी पति से रोते हुए पिटती है
फिर भी उसे पैरों पर खड़ा करने के लिए लड़ती है

वह नहीं लड़ती महज शोर मचाने के लिए
वह लड़ती है चार पैसे बचाने के लिए
वह अपने अधिकार के लिए लड़ती है
सुखी परिवार के लिए लड़ती है

Read this?   अगर भगवान पर विश्वास करते है तो हमें हर पल उनकी अनुभूति होती है- Motivational Story

वह सांपों से चील बनके लड़ती है
अदालत में वकील बन के लड़ती है

वह दिल में दया, ममता, प्यार लेकर लड़ती है
तो कभी हाथ में तलवार लेकर लड़ती है

वह लेखिका बनके पेन से लड़ती है
जरूरत पड़े तो फाइटर प्लेन से लड़ती है

प्यार में राधा दीवानी की तरह लड़ती है
तो जंग में झांसी की रानी की तरह लड़ती है

कभी कील बनके लड़ती है कभी किला बनके लड़ती है
कभी शर्मीली तो कभी ईरोम शर्मिला बनके लड़ती है

कभी शाहबानो बन पूरे समाज से लड़ती है
तो कभी सत्यवती बन यमराज से लड़ती है

कभी रजिया कभी अपाला बनके लड़ती है
कभी हजरत महल कभी मलाला बनके लड़ती है

Read this?   Ek hi parmatma – Fakir Sarmad Sort Story

कभी वाम तो कभी आवाम बनके लड़ती है
और जरूरत पड़े तो मैरीकॉम बनके लड़ती है

कभी दुर्गावती कभी दामिनी बनकर लड़ती है
अस्मिता पर आंच आये तो
पन्नाधाय और पद्मिनी बनके लड़ती है

कभी नफरत में कभी अभाव में लड़ती है
तो कभी इंदिरा बन चुनाव में लड़ती है

उसने लड़ने की यह शक्ति यूं ही नहीं पाई है
वह नौ महीने पेट के अंदर लड़ के आई है

*सच में लड़कियां बड़ी लड़ाका होती हैं*

_____🍃🙏🏼🍃_____

*-कवि पंकज प्रसून की रचना*

Please share this Story/Video on: