20.76K Views0 Comments

जनवरी की सर्द भरी रात थी सडक पर चारो तरफ सन्नाटा फैला हुआ था दूर दूर तक कोई नजर नही आ रहा था बीच बीच में सिर्फ कुत्तो के भौकने की आवाज़ आती थी जो की सडक की सन्नाटे को बीच बीच में चिर रही थी लेकिन सडक के किनारे बनी झोपडी में वह बूढी माँ अपने बच्चे के साथ किसी तरह उस ठंड से बचने की कोशिश कर रही थी लेकिन फटी चादर और झोपडी में से आने वाली सर्द हवाए उस माँ बेटे के जीवन की बार बार परीक्षा ले रही थी वे दोनों जितना ठंड से बचने की कोशिश करते ठंड उतनी ही बढती जा रही थी जिसके कारण उस बूढी माँ से उसका बेटा बोलता माँ क्या हम हमेसा ऐसे ही ठंड से कापते रहेगे क्या हम लोगो के पास अपना पक्का घर और ओढने के लिए कभी चादर नही होगा क्या ?

जिससे यह सब बाते सुनकर उस बूढी माँ का मन ही मन कलेजा काप जाता था लेकिन कभी जीवन से हिम्मत न हारने वाली वह बूढी माँ अपने बेटे को सांत्वना देती की बेटा जब तुम बड़े हो जाओगे तो वो सब हमारे पास होगा जो तुम पाना चाहते हो बस तुम अपने पैरो पर खड़ा हो जाओ और फिर तुम इतना कमाना की चादर की कीमत तुम्हारी कमाई से कम लगे जिससे आसानी से तुम अपने लिए चादर खरीद सकते हो ,

Read this?   Japji Sahib Podi No 4 & 5 # Dada Babani Saheb : Radha Soami Satsang

अपनी माँ से यह बाते सुनकर उस बेटे का हिम्मत जोश से भर जाता और फिर मन ही मन सोचता की जरुर एक दिन वह बहुत बड़ा आदमी बनेगा जिससे वह अपने और अपने माँ के लिए चादर खरीदेगा जिससे फिर कभी ठंड से अपनी माँ को और खुद को परेशान नही होना पड़ेगा और इसी सपने को पूरा करने के लिए उस बूढी माँ का बेटा अपने माँ के साथ दिन भर मेहनत मजदूरी करता और मन ही मन सोचता की एक दिन जरुर उसका सपना पूरा होगा

अपने बेटे के ठंड से परेशान होने की वजह से वह बूढी माँ जहा काम करती थी अगले दिन उस सेठ से जाकर बोली की मुझे एक चादर खरीदने के लिए कुछ पैसे या कोई चादर दे दे, गरीब बूढी माँ की बाते सुनकर सेठ का हृदय पिघल गया और उसने एक चादर दे दिया तो वह बूढी माँ अपने सेठ से चादर की कीमत पूछने लगी तो सेठ बोला जो तुम्हे ठीक लगे और जब तुम्हारे पास पैसे हो तब चादर की कीमत दे देना यह बाते सुनकर वह बूढी औरत मन ही मन अपने सेठ को आशीर्वाद दे रही थी और उसे ये भी चिंता रहती थी की वह वह उस चादर की कीमत कैसे चुकाएगी

Read this?   उसने महात्माजी को प्रणाम किया आशीर्वाद लिया और चल पड़ा अपनी राह पर

समय बीतता गया उस बूढी माँ के हाथ पाँव पहले के मुकाबले कमजोर हो गये और वह लड़का बड़ा हो गया जिससे अब वह लड़का अपनी बूढी माँ को काम पर नही जाने देता और खुद को इतना काबिल बना लिया था की वह पढना लिखना जान गया था जिसके कारण उसे उसी सेठ के यहाँ नौकरी मिल गयी वह लड़का अपनी माँ की तरह बहुत ही मेहनती था जिससे उसका सेठ भी उस लड़के के काम से प्रभावित होकर उसकी पहली तनख्वाह पर उसके तनख्वाह के साथ उसके लिए एक चादर भेट करनी चाही तो यह सुनकर उस लड़के की आखे भर आई और वह अपने सेठ से बोला की साहब आप जो चादर देना चाहते है उसे मुझे न देकर अगर मेरी माँ को भेट करेगे तो शायद चादर की असली कीमत होंगी क्यूकी अगर आज जिस मुकाम पर मै पंहुचा हु तो शायद इसमें मेरी माँ का ही हाथ है और इसलिए इस चादर को मेरी माँ को भेट करना

Read this?   Inna Ankhia Vich Satguru Aan # Radha Soami Shabad

यह सब बाते सुनकर उस सेठ का हृदय गदगद हो उठा और बोला ठीक है अगर तुम्हारी सोच इतनी अच्छी है तो तुम्हारे माँ से मै जरुर मिलुगा तुम कल अपनी माँ के साथ आना और फिर जब अगले दिन वह बूढी औरत अपने बेटे के साथ उस सेठ के पास गयी तो तुरंत उसने अपने सेठ को पहचान लिया और सेठ द्वारा दिए गये पहले चादर की कीमत देने की बात याद आ गयी और फिर जब सेठ उस बूढी औरत को चादर देने लगा तो उसके आँख से आसू छलक आये और वह बोली की मै अभी पहले दी हुई ही चादर की कीमत आपको दे नही पायी हु अब भला इस चादर की कीमत कैसे चुकाऊगी.

तो यह बाते सुनकर उस बूढी औरत को तुरंत पहचान गया और कहा की मेरे दिए हुए पहले चादर की कीमत तो मुझे तुम्हारे होनहार बेटे के रूप में मिल गया है जो की शायद चादर की कीमत से कही ज्यादा है यह बाते सुनकर उस बूढी माँ की आखे भर आई थी और शायद आज पहली बार उसे अपने चादर की कीमत का पता चल गया था जो की कही न कही उसके जिन्दगी में ख़ुशी लेकर आई थी