Sort: Date | Views |
View:

बीबी सत्संग फर्माया करती थी उसकी स्टोरी

3.30K Views0 Comments

Hoshiarpur ke pass ke gaon ki ek bibi jo ki satsang farmaya karti hai. Uski duty thursday ko evening satsang ke liye lagi. Sardiyon ka time tha to ghar aate bahut late ho gyi. Jab woh bapis ghar aa rehi thee ...

एक दिन माजूदा बाबा जी तरन तारन के सत्संग घर पे गए – प्रेणादायक कहानी

4.95K Views0 Comments

मौजूदा सरकार तरनतारन के सरप्राइज विजिट पर थे । दर्शन के बाद बहुत सारे लोगों ने अपनी-अपनी बात कही । अंत में एक बुजुर्ग जो पीछे बैठे थे , कुछ कहने की इच्छा जाहिर की । सतगुरु ने इशारा किया तो बीच से रास्ता साफ हो गया...

बाबा सावन सिंह जी की साखियों से एक विशेष प्रसंग

3.92K Views0 Comments

बड़े हजूर बाबा सावन सिंह जी की साखियों से एक विशेष प्रसंग है । जो झेलम की साखी का है नाम दान देने से पहले जीवो को कुछ हिदायते दिया करते थे । मॉस, शराब , पर स्त्री ,पर पुरुष , झूठ , चोरी ,निंदा छोड़ने के साथ ही...

Babaji ne Satsang main promise ke upar bataya

2.88K Views0 Comments

Promise and neglect – Babaji ne Satsang main promise ke upar bataya Leave the promise of most done and come to the promise made by the straightforward guru that he is playing the promise made to the guru or not...

एक परिवार की एक बहुत ही सुंदर कहानी – प्रेणादायक कहानी

6.18K Views0 Comments

एक पति-पत्नी में तकरार हो गयी —पति कह रहा था : “मैं नवाब हूँ इस शहर का लोग इसलिए मेरी इज्जत करते है और तुम्हारी इज्जत मेरी वजह से है।” पत्नी कह रही थी : “आपकी इज्जत मेरी वजह से है। मैं चाहूँ तो आपकी इज्जत एक मिनट...

मोहे मिला सुहाग गुरु का – Mohe mila suhag guru shabad

6.95K Views0 Comments

Rssb new shabad 2017 || मोहें मिला सुहाग गुरु का || Mohe Mila Suhag Guru Ka - Radha Soami

मेरी इस बात पर दादीकम अचंभित हुईं औरमेरे मित्र अधिक – एक प्रेणादायक कहानी

3.79K Views0 Comments

*लस्सी....✍* *एक चर्चित दूकान पर लस्सी का ऑर्डर देकर हम सब दोस्त-यार आराम से बैठकर एक दूसरे की खिंचाई और हंसी-मजाक में लगे ही थे कि एक लगभग 70-75 साल की बुजुर्ग स्त्री पैसे मांगते हुए मेरे सामने हाथ फैलाकर खड...

मेरे पापों से मुझे क्षमा करना ।बस, आज से मैं सिर्फ आपकेनाम का सुमिरन करुँगी – एक प्रेणादायक कहानी

5.87K Views0 Comments

⭕ परिवर्तन  ⭕* ~~~~~~~~~~~~~~ ♦ एक राजा को राज भोगते हुए काफी समय हो गया था । बाल भी सफ़ेद होने लगे थे । एक दिन उसने अपने दरबार में एक उत्सव रखा और अपने गुरुदेव एवं मित्र देश के राजाओं को भी सादर आमन्त्रित किया ...