Sort: Date | Views |
View:

चीजें हमेशा वैसी नहीं होतीं, जैसी दिखती… एक रोचक कहानी

12.02K Views

सन्तों की अपनी ही मौज होती है! एक संत अपने शिष्य के साथ किसी अजनबी नगर में पहुंचे। रात हो चुकी थी और वे दोनों सिर छुपाने के लिए किसी आसरे की तलाश में थे। उन्होंने एक घर का दरवाजा खटखटाया, वह एक धनिक का घर था और अंदर स...

जिन्दगी में अनुभव और आत्मज्ञान का महत्व – एक प्रेणादायक कहानी

7.52K Views

एक गांव में महान तलवरबाज़ रहा करता  था. पूरा साम्राज्य उसकी महानता के गुण गाता। तलवार के दम पर उसने आपने राजा के लिए कई लड़ाईया जीती। लेकिन समय पर किसका जोर चलता है लड़ाईया बढ़ती गई और तलवरबाज़ बुढा होने लगा. उसने तय कि...

तुमने अपना वादा तोड़ा है , अब मैं हर रोज तुम्हे परेशान करने आउंगी – एक रोचक कहानी

9.68K Views

एक आदमी की पत्नी अचानक से बहुत बीमार पड़ गयी . मरने से पहले उसने अपने पति से कहा , “ मैं तुम्हे बहुत प्यार करती हूँ …. तुम्हे छोड़ कर नहीं जाना चाहती… मैं नहीं चाहती की मेरे जाने के बाद तुम मुझे भुला दो और किसी दूसरी और...

Top 10 Most Viewed Radha Soami Shabad 2016

32.56K Views

Here you can watch the Top 10 Most Viewed Radha Soami Shabad 2016 on Youtube, All the most viewed radha soami dera beas shabad are free to download. Sat Guru Main Teri Patang || सतगुरु मैं तेरी पतंग || Radha So...

एक प्रेणादायक कहानी मुफ्त अनारों की कीमत नहीं समझी – Motivation Story

7.53K Views

एक समय की बात है। एक शहर में एक धनी आदमी रहता था। उसकी लंबी-चौड़ी खेती-बाड़ी थी और वह कई तरह के व्यापार करता था। बड़े विशाल क्षेत्र में उसके बगीचे फैले हुए थे, जहां पर भांति-भांति के फल लगते थे। उसके कई बगीचों में अन...

बाबा जी ने पीछे देखा और सत्संगी से पूछा – एक प्रेणादायक कहानी

13.12K Views

एक हिन्दू सन्यासी अपने शिष्यों के साथ गंगा नदी के तट पर नहाने पहुंचा. वहां एक ही परिवार के कुछ लोग अचानक आपस में बात करते-करते एक दूसरे पर क्रोधित हो उठे और जोर-जोर से चिल्लाने लगे . संयासी यह देख तुरंत पलटा और अपन...

सेठ ने एक लड़के कोनौकरी पर रख लियालेकिन सेठ थोड़े शक्कीकिस्म का था….

21.86K Views

एक सेठ ने अपने घर में साफ़ सफाई के लिए एक लड़के को नौकरी पर रख लिया लेकिन सेठ थोड़े शक्की किस्म का था और उसे लड़के की पर भरोसा नहीं था तो उसकी ईमानदारी परखने के लिए सेठ ने सेठ ने उसकी परीक्षा लेनी चाही तो फर्श पर एक रूपये...

जैसे जैसे हम नाम का सिमरन करते जाते है वैसे वैसे…

6.83K Views

जैसे जैसे हम नाम का सिमरन करते जाते है वैसे वैसे भीतर की सारी गन्दगी भी निकलती जाती है।बाबा जी कहते है की कलयुग में सिर्फ एक ही साधन है ।नामरूपि जहाज। जिसपर सवार होकर ही जिव सचखण्ड तक पहुच सकते है।आत्मा और परमात्...