Tag: motivational stories

Sort: Date | Views |
View:

लड़कियां बड़ी लड़ाका होती हैं – मैंने देखा एक लड़की महिला सीट…

2.82K Views0 Comments

लड़कियां बड़ी लड़ाका होती हैं... मैंने देखा एक लड़की महिला सीट पर बैठे पुरुष को उठाने के लिए लड़ रही थी तो दूसरी लड़की महिला - कतार में खड़े पुरुष को हटाने के लिए लड़ रही थी मैंने दिमाग दौड़ाया तो हर ओर लड़की को लड़ते...

बाबा सरदार बहादुर सिंह जी के समय की बात

2.41K Views0 Comments

Ye us time ki BAAT hai jab; Baba Sardar Bahadur Singh Ji gaddhi par baithe hue the. Hazoor Maharaj Sawan Singh Ji ka koi premi-sewak unke paas aaya or sir niche kar k rote hue bola; Mein Dera Beas chhodkar jaana ...

स्टोरी एक ब्लाइंड आदमी की जो डेरे में आया करता था…

3.03K Views0 Comments

Once a blind person, who was a devotee of Atmakta, came to the tent. He said to a servant of the hero, “Veer ji, I want to talk to your chef, you can tell how I can meet him, that savadar Veer said that the total...

बीबी सत्संग फर्माया करती थी उसकी स्टोरी

3.33K Views0 Comments

Hoshiarpur ke pass ke gaon ki ek bibi jo ki satsang farmaya karti hai. Uski duty thursday ko evening satsang ke liye lagi. Sardiyon ka time tha to ghar aate bahut late ho gyi. Jab woh bapis ghar aa rehi thee ...

एक दिन माजूदा बाबा जी तरन तारन के सत्संग घर पे गए – प्रेणादायक कहानी

4.98K Views0 Comments

मौजूदा सरकार तरनतारन के सरप्राइज विजिट पर थे । दर्शन के बाद बहुत सारे लोगों ने अपनी-अपनी बात कही । अंत में एक बुजुर्ग जो पीछे बैठे थे , कुछ कहने की इच्छा जाहिर की । सतगुरु ने इशारा किया तो बीच से रास्ता साफ हो गया...

बाबा सावन सिंह जी की साखियों से एक विशेष प्रसंग

3.98K Views0 Comments

बड़े हजूर बाबा सावन सिंह जी की साखियों से एक विशेष प्रसंग है । जो झेलम की साखी का है नाम दान देने से पहले जीवो को कुछ हिदायते दिया करते थे । मॉस, शराब , पर स्त्री ,पर पुरुष , झूठ , चोरी ,निंदा छोड़ने के साथ ही...

एक परिवार की एक बहुत ही सुंदर कहानी – प्रेणादायक कहानी

6.24K Views0 Comments

एक पति-पत्नी में तकरार हो गयी —पति कह रहा था : “मैं नवाब हूँ इस शहर का लोग इसलिए मेरी इज्जत करते है और तुम्हारी इज्जत मेरी वजह से है।” पत्नी कह रही थी : “आपकी इज्जत मेरी वजह से है। मैं चाहूँ तो आपकी इज्जत एक मिनट...

मेरी इस बात पर दादीकम अचंभित हुईं औरमेरे मित्र अधिक – एक प्रेणादायक कहानी

3.83K Views0 Comments

*लस्सी....✍* *एक चर्चित दूकान पर लस्सी का ऑर्डर देकर हम सब दोस्त-यार आराम से बैठकर एक दूसरे की खिंचाई और हंसी-मजाक में लगे ही थे कि एक लगभग 70-75 साल की बुजुर्ग स्त्री पैसे मांगते हुए मेरे सामने हाथ फैलाकर खड...