Tag: radha soami short story

Sort: Date | Views |
View:

जो हाथ से चला गया – Inspirational Story Babaji

4.62K Views0 Comments

  जो हाथ से चला गया उसका दुख क्या करना! एक आदमी तड़के नदी की ओर जाल लेकर जा रहा था। नदी के पास पहुंचने पर उसे आभास हुआ कि सूर्य अभी पूरी तरह बाहर नहीं निकला हैं। घने अंधेरे में वह मस्ती से टहलने लगा। तभी उस...

जब भगवान ने किसान को एक मौका दिया – एक दिलचस्प कहानी

8.34K Views0 Comments

  एक बार एक  किसान परमात्मा से बड़ा नाराज हो गया ! कभी बाढ़ आ जाये, कभी सूखा पड़ जाए, कभी धूप बहुत तेज हो जाए तो कभी ओले पड़ जाये! हर बार कुछ ना कुछ कारण से उसकी फसल थोड़ी ख़राब हो जाये! एक  दिन बड़ा तंग आ कर ...

भगवान में विश्वास की एक दिलचस्प कहानी – Motivational Story Babaji

6.55K Views0 Comments

एक गाँव में एक परवेश नाम का आदमी रहता था| परवेश अपने बीवी और एक बेटी के साथ एक छोटे से झोपड़े में रहता था| परवेश अपनी गरीबी से बहुत परेशान था| वह अपनी बेटी को अच्छे स्कूल में पढ़ाकर और एक अच्छे घर में शादी करवाना चाहता ...

अगर भगवान पर विश्वास करते है तो हमें हर पल उनकी अनुभूति होती है- Motivational Story

5.02K Views0 Comments

एक बार एक व्यक्ति नाई की दुकान पर अपने बाल कटवाने गया| नाई और उस व्यक्ति के बीच में ऐसे ही बातें शुरू हो गई और वे लोग बातें करते-करते “भगवान” के विषय पर बातें करने लगे| तभी नाई ने कहा – “मैं भगवान (Bhagwan) के अस्त...

जब न्यूटन को नौकर ने सुझाया सही रास्ता – Motivational Story

3.03K Views0 Comments

लालबहादुर शास्त्री प्रधानमंत्री होने के बावजूद अत्यंत सरल, सादगी संपन्न और दूसरों का सम्मान करने वाले व्यक्ति थे | वे अधिकतर महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करते वक्त अपने सहयोगियों अथवा अपने नौकर या माली से पूछ बैठते क्यो...

असली चोर कौन था – Clever King A Inspirational Story

2.63K Views0 Comments

एक बार की बात है, एक नगर में एक राजा रहता था जिसके खजाने भरपूर भरे हुए थे. एक दिन कालू नाम के चोर ने राजा के खजाने को चोरी करने की योजना बनाई. आधी रात को कालू राजा के महल में चोरी करने पहुँच गया. वह खजाने के दरवाजे मे...

एक बोरी गेहूँ – Motivational Story

2.63K Views0 Comments

प्रतापनगर एक बहुत ही संपन्न राज्य था। वहाँ के राजा बहुत ही प्रतापी थे और प्रजा का पूरा ख्याल रखते थे। राजा ने पूरे जीवन प्रजा की मन से सेवा की थी लेकिन अब वह बूढ़े हो चले थे तो मन में बड़ी दुविधा थी कि उनके बाद राज्य को...

Kal kare so aaj kar

2.10K Views0 Comments

आज ही क्यों नहीं ? एक बार की बात है कि एक शिष्य अपने गुरु का बहुत आदर-सम्मान किया करता था |गुरु भी अपने इस शिष्य से बहुत स्नेह करते थे लेकिन  वह शिष्य अपने अध्ययन के प्रति आलसी और स्वभाव से दीर्घसूत्री था |सदा स्वाध्...