Tag: rssb story

Sort: Date | Views |
View:

बाबाजी अपने किसी सेवक के साथ कार में कहीं जा रहे थे रास्ते में आम की गाड़ी दिखाई दी

7.95K Views0 Comments

सतगुरु जब चाहे तारे बाबाजी एक बार अपने किसी सेवक के साथ कार में कहीं जा रहे थे रास्ते में एक आम की गाड़ी दिखाई दी. बाबाजी ने गाड़ी रुकवाई. आम वाले से कहा कि ऊपर के दो, और साईड के तीन हटाकर अंदर के आम निकाल कर त...

हुजूर ने मिसेज वुड के घर पे सेवादारों की एक मीटिंग बुलाई

2.43K Views0 Comments

1979 में श्री हुज़ूर महाराज जी के इँग्लैंड दौरे के दौरान, हुजूर ने मिसेज वुड के घर पे सेवादारों की एक मीटिंग बुलाई, मिसेज वुड, इँग्लैंड में हुजूर महाराज जी की प्रतिनिधि है। उस मीटिंग में मिसेज वुड ने श्री कुन्दन सोंधी ...

मैं खुद को शर्मिंदा हूं और आपसे माफी मांगना चाहता हूं – एक प्रेरणादायक कहानी

1.55K Views0 Comments

Bahut samay pahale kee baat hai , kisee gaanv mein ek kisaan rahata tha . vah roz bhor mein uthakar door jharanon se svachchh paanee lene jaaya karata tha . is kaam ke lie vah apane saath do bade ghade le jaata th...

Bacho par baba ji kirpa ki Story

1.22K Views0 Comments

Jaise kee aap sab jaanate hain ki hamaare baaba jee sabhee par daya mahar karate hai aur bachcho se to unaka khaas lagaav hai | yah baat jo aap padhane vaale haivomaarch ke maheene kee baat hai jab sababachchon ...

बीबी सत्संग फर्माया करती थी उसकी स्टोरी

3.29K Views0 Comments

Hoshiarpur ke pass ke gaon ki ek bibi jo ki satsang farmaya karti hai. Uski duty thursday ko evening satsang ke liye lagi. Sardiyon ka time tha to ghar aate bahut late ho gyi. Jab woh bapis ghar aa rehi thee ...

Babaji ne Satsang main promise ke upar bataya

2.88K Views0 Comments

Promise and neglect – Babaji ne Satsang main promise ke upar bataya Leave the promise of most done and come to the promise made by the straightforward guru that he is playing the promise made to the guru or not...

एक परिवार की एक बहुत ही सुंदर कहानी – प्रेणादायक कहानी

6.17K Views0 Comments

एक पति-पत्नी में तकरार हो गयी —पति कह रहा था : “मैं नवाब हूँ इस शहर का लोग इसलिए मेरी इज्जत करते है और तुम्हारी इज्जत मेरी वजह से है।” पत्नी कह रही थी : “आपकी इज्जत मेरी वजह से है। मैं चाहूँ तो आपकी इज्जत एक मिनट...

मैं खुद पर शर्मिंदा हूँ और आपसे क्षमा मांगना चाहता हूँ – एक प्रेणादायक कहानी

11.20K Views0 Comments

?बहुत समय पहले की बात है , किसी गाँव में एक किसान रहता था . वह रोज़ भोर में उठकर दूर झरनों से स्वच्छ पानी लेने जाया करता था . इस काम के लिए वह अपने साथ दो बड़े घड़े ले जाता था , जिन्हें वो डंडे में बाँध कर अपने कंधे प...