Tag: rssb story

Sort: Date | Views |
View:

उसके पिता उसे रसोई मे ले जाते है और तीन – एक सुन्दर कहानी है

2.59K Views0 Comments

एक बार एक बच्ची अपने पिता से शिकायत करती है की उसकी ज़िंदगी मुश्किलों से भरी हुई है और वह नहीं जानती की वो इनसे कैसे छुटकारा पाएँ। वह चुनोतिओ के सामने संघर्ष करते करते थक गयी है। एक मुश्किल सुलझती है तो दूसरी मुसीबत आ ...

सत्संग की संगत – बीबी अचरज और हैरानी से बाबा जी को देखती हैं एक दिलचस्प कहानी

12.43K Views0 Comments

सत्संग खत्म होने के बाद बाबा जी स्टेज के पीछे सीढियों से नीचे जा रहे थे, साथ में पाठी बीबी भी थे, पाठी बीबी बाबा जी से कहती हैं “बाबा जी आज तो काफी संगत आई है भंडारे पे, जरा अंदाज़े से बताइए की आज का सत्संग सुनने के ल...

Babaji ne Satsang main promise ke upar bataya

3.05K Views0 Comments

Promise and neglect – Babaji ne Satsang main promise ke upar bataya Leave the promise of most done and come to the promise made by the straightforward guru that he is playing the promise made to the guru or not...

क्यों बुरे वक्त में भगवान इन लोगों का साथ नहीं देता – प्रेरणादायक कहानी

3.14K Views0 Comments

एक बार की बात है। एक इंसान भगवान में बहुत ही विश्वास करता था। वह पुरे मन से भगवान की सेवा किया करता था। एक दिन उसने भगवान से कहा – मैंने आपकी पुरे मन से सेवा की है। मैं जानना चाहता हूँ की आप हो भी या नहीं। आप भले ही म...

हुजूर ने मिसेज वुड के घर पे सेवादारों की एक मीटिंग बुलाई

2.58K Views0 Comments

1979 में श्री हुज़ूर महाराज जी के इँग्लैंड दौरे के दौरान, हुजूर ने मिसेज वुड के घर पे सेवादारों की एक मीटिंग बुलाई, मिसेज वुड, इँग्लैंड में हुजूर महाराज जी की प्रतिनिधि है। उस मीटिंग में मिसेज वुड ने श्री कुन्दन सोंधी ...

खुशी और संतोष का रहस्य – एक दिलचस्प कहानी

7.62K Views0 Comments

  अमेरिका में एक सेमीनार चल रहा था जिसका विषय था – SECRET OF HAPPINESS AND SATISFACTION IN LIFE. बहुत सारे प्रवक्ता आये और उन्होंने अपने अपने मत रखे. सबसे आखिर में एक प्रवक्ता आये और उन्होंने वहां बैठे लोगो से...

चलिए हम ही बता देते हैं कि आगे उस लड़की ने क्या किया– एक प्रेणादायक कहानी

7.21K Views0 Comments

1. धूर्त साहूकार और चालाक लड़की बात बहुत समय पहले की हैं। एक किसान को अपनी बुरी आर्थिक स्थिति से हार मानकर  गांव के ही एक साहूकार से क़र्ज लेना पड़ा, लेकिन काफी वक्त बीत जाने पर भी वह साहूकार का ऋर्ण नहीं चुका पाया। गाँ...

बाबा, मेरा पति मुझसे बहुत प्रेम करता था , लेकिन वह जबसे युद्ध से लौटा है ठीक से बात तक नहीं करता – एक दिलचस्प कहानी

4.67K Views0 Comments

बहुत समय पहले की बात है , एक वृद्ध सन्यासी हिमालय की पहाड़ियों में कहीं रहता था. वह बड़ा ज्ञानी था और उसकी बुद्धिमत्ता की ख्याति दूर -दूर तक फैली थी. एक दिन एक औरत उसके पास पहुंची और अपना दुखड़ा रोने लगी , ” बाबा, मेर...