Tag: rssbeas stories

Sort: Date | Views |
View:

क्यों बुरे वक्त में भगवान इन लोगों का साथ नहीं देता – प्रेरणादायक कहानी

2.20K Views0 Comments

एक बार की बात है। एक इंसान भगवान में बहुत ही विश्वास करता था। वह पुरे मन से भगवान की सेवा किया करता था। एक दिन उसने भगवान से कहा – मैंने आपकी पुरे मन से सेवा की है। मैं जानना चाहता हूँ की आप हो भी या नहीं। आप भले ही म...

मैं खुद को शर्मिंदा हूं और आपसे माफी मांगना चाहता हूं – एक प्रेरणादायक कहानी

1.59K Views0 Comments

Bahut samay pahale kee baat hai , kisee gaanv mein ek kisaan rahata tha . vah roz bhor mein uthakar door jharanon se svachchh paanee lene jaaya karata tha . is kaam ke lie vah apane saath do bade ghade le jaata th...

स्टोरी एक ब्लाइंड आदमी की जो डेरे में आया करता था…

3.03K Views0 Comments

Once a blind person, who was a devotee of Atmakta, came to the tent. He said to a servant of the hero, “Veer ji, I want to talk to your chef, you can tell how I can meet him, that savadar Veer said that the total...

Babaji ne Satsang main promise ke upar bataya

2.93K Views0 Comments

Promise and neglect – Babaji ne Satsang main promise ke upar bataya Leave the promise of most done and come to the promise made by the straightforward guru that he is playing the promise made to the guru or not...

मेरी इस बात पर दादीकम अचंभित हुईं औरमेरे मित्र अधिक – एक प्रेणादायक कहानी

3.83K Views0 Comments

*लस्सी....✍* *एक चर्चित दूकान पर लस्सी का ऑर्डर देकर हम सब दोस्त-यार आराम से बैठकर एक दूसरे की खिंचाई और हंसी-मजाक में लगे ही थे कि एक लगभग 70-75 साल की बुजुर्ग स्त्री पैसे मांगते हुए मेरे सामने हाथ फैलाकर खड...

धरती फट रही है – एक प्रेरणादायक कहानी

4.31K Views0 Comments

बहुत समय पहले की बात है किसी जंगल में एक गधा बरगद के पेड़ के नीचे लेट कर आराम कर रहा था . लेटे-लेटे उसके मन में बुरे ख़याल आने लगे , उसने सोचा ,” यदि धरती फट गयी तो मेरा क्या होगा ?” अभी उसने ऐसा सोचा ही था कि उसे ...

वह दरवाजा खोलती है और भोंचक्की रह जाती है – एक प्रेणादायक कहानी

7.39K Views0 Comments

हमेशा अच्छा करो ??एक औरत अपने परिवार के सदस्यों के लिए रोज़ाना भोजन पकाती थी और एक रोटी वह वहाँ से गुजरने वाले किसी भी भूखे के लिए पकाती थी..। वह उस रोटी को खिड़की के सहारे रख दिया करती थी, जिसे कोई भी ले सकता था...

इस बात पर समोसेवाले गोपाल ने बडा सोचा, और बोला…

8.88K Views0 Comments

एक बडी कंपनी के गेट के सामने एक प्रसिद्ध समोसे की दुकान थी, लंच टाइम मे अक्सर कंपनी के कर्मचारी वहाँ आकर समोसे खाया करते थे। एक दिन कंपनी के एक मैनेजर समोसे खाते खाते समोसेवाले से मजाक के मूड मे आ गये। मैनेजर ...