Tag: story babaji

Sort: Date | Views |
View:

बेवक़ूफ़ गृहणी: एक औरत की सची दासतान

3.44K Views0 Comments

बेवक़ूफ़ गृहणी: एक औरत की सची दासतान।।।।।।। एक गृहणी वो रोज़ाना की तरह आज फिर ईश्वर का नाम लेकर उठी थी । किचन में आई और चूल्हे पर चाय का पानी चढ़ाया। फिर बच्चों को नींद से जगाया ताकि वे स्कूल के लिए तैयार हो सकें । कु...

बाबाजी अपने किसी सेवक के साथ कार में कहीं जा रहे थे रास्ते में आम की गाड़ी दिखाई दी

6.84K Views0 Comments

सतगुरु जब चाहे तारे बाबाजी एक बार अपने किसी सेवक के साथ कार में कहीं जा रहे थे रास्ते में एक आम की गाड़ी दिखाई दी. बाबाजी ने गाड़ी रुकवाई. आम वाले से कहा कि ऊपर के दो, और साईड के तीन हटाकर अंदर के आम निकाल कर त...

भगवान ने उसके पास जाकर कहा – मैं तुम्हें बचाना चाहता हूं

6.89K Views0 Comments

एक इंसान घने जंगल में भागा जा रहा था। . शाम हो गई थी। . अंधेरे में कुआं दिखाई नहीं दिया और वह उसमें गिर गया। . गिरते-गिरते कुएं पर झुके पेड़ की एक डाल उसके हाथ में आ गई। जब उसने नीचे झांका, तो देखा कि कुएं में च...

उसका उत्तर सुनकर मैं तो जड़-सी हो गई – एक प्रेणादायक कहानी

7.57K Views0 Comments

वो समझदार बहू शाम को गरमी थोड़ी थमी तो मैं पड़ोस में जाकर निशा के पास बैठ गई। आखिर ,उसकी सासू माँ भी तो कई दिनों से बीमार है….. सोचा ख़बर भी ले आऊँ और निशा के पास बैठ भी आऊँ। मेरे बैठे-बैठे पड़ोस में रहने वाली उसकी...

रेनू सिर्फ इतना ही कह पायी की फोन कट गया – एक नई पहल

7.36K Views0 Comments

एक नई पहल....... उसने ट्रेन के टॉयलेट के दरवाज़े के पीछे लिखें नंबर में कॉल लगाया , "हाँ आप रेनू बोल रहीं हैं" " जी हाँ , लेकिन आप कौन और आपको मेरा ये नंबर कहाँ से मिला " "दरसल वो ट्रेन , दरसल वो ट्रेन के डिब्ब...

चलिए हम ही बता देते हैं कि आगे उस लड़की ने क्या किया– एक प्रेणादायक कहानी

7.01K Views0 Comments

1. धूर्त साहूकार और चालाक लड़की बात बहुत समय पहले की हैं। एक किसान को अपनी बुरी आर्थिक स्थिति से हार मानकर  गांव के ही एक साहूकार से क़र्ज लेना पड़ा, लेकिन काफी वक्त बीत जाने पर भी वह साहूकार का ऋर्ण नहीं चुका पाया। गाँ...

द्वार खुला होने के कारण उनकी आवाजें बाहर कमरे में बैठी माँ को भी सुनाई दे रहीं थीं…

11.61K Views0 Comments

बेटा-बहु अपने बैडरूम में बातें कर रहे थे। द्वार खुला होने के कारण उनकी आवाजें बाहर कमरे में बैठी माँ को भी सुनाई दे रहीं थीं। बेटा---" अपने job के कारण हम माँ का ध्यान नहीं रख पाएँगे, उनकी देखभाल कौन करेगा ? क...

कमजोर बनाने वाली हर एक आवाज को अनसुना करें – एक प्रेणादायक कहानी

8.40K Views0 Comments

एक बार एक सीधे पहाड़ में चढ़ने की प्रतियोगिता हुई. बहुत लोगों ने हिस्सा लिया. प्रतियोगिता को देखने वालों की सब जगह भीड़ जमा हो गयी. माहौल  में  सरगर्मी थी , हर तरफ शोर ही शोर था. प्रतियोगियों ने चढ़ना शुरू किय...