2.94K Views0 Comments

यह कहानी बेशक पुराने दृश्य को लिए है लेकिन फिर भी आज के परिपेक्ष में काफी मायने रखती है क्योकि आजकल भी यही होता है भले ही इन्सान के तौर तरीके बदल गये है बहुत से पुरुष और स्त्री ऐसे है जो किन्ही कारणों से अपने जीवनसाथी के साथ धोखा देते है और अनेतिक राह पर चलते है जबकि हमे चाहिए कि अगर हम अपनी निजी जिन्दगी से संतुष्ट नहीं है तो अपने जीवनसाथी से बात करें उसके बाद जो भी रास्ता बन पड़े वो करे लेकिन तरीका नैतिक होना चाहिए वर्ना अनेतिक रास्तो पर चलने वालों की केसी हालत हो जाती है वो आप इस कहानी के जरिये बखूबी समझ सकते है |

किसी ग्राम में एक दम्पति रहा करते थे | किसान तो वृद्ध था पर उसकी पत्नी युवती थी | अपने पुरुष से संतुष्ट नहीं रहने के कारण किसान की पत्नी सदा पर-पुरुष की टोह में रहा करती थी | इसी कारण वो एक क्षण भी घर में नहीं ठहरती थी | एक दिन किसी ठग ने उसे घर से निकलते देख लिया उसने उसका पीछा किया और जब वो एकांत में पहुँच गयी तो ठग ने उसे बोला कि ‘ मेरी पत्नी का देहांत हो चुका है ‘ और मैं अब तुम पर अनुरक्त हूँ तुम मेरे साथ चलो वो बोली अगर ऐसी ही बात है तो मेरा पति वृद्ध है वो हिल डुल नहीं सकता जबकि उसके पास बहुत सा धन है मैं उस धन को लेके आती हूँ ताकि हमारा भविष्य सुखमय बीते | उसने कहा ठीक है जाओ और कल प्रात: काल मुझे इसी स्थान पर मिलना | इस प्रकार उस दिन वह किसान की स्त्री अपने घर लौट गयी और रात होने पर जब उसका पति सो गया तो तो उसने अपने पति का धन समेटा और उस जगह पर पहुंची जंहा उसे उस ठग ने बुलाया था | दोनों वंहा से चल दिए |

Read this?   एक परिवार की एक बहुत ही सुंदर कहानी - प्रेणादायक कहानी

दोनों अपने ग्राम से बहुत दूर निकल आयें तो मार्ग में एक गहरी नदी आ गयी | उस समय ठग के मन में विचार आया कि इस औरत को मैं अपने साथ ले जाकर मैं क्या करूँगा और फिर इसको खोजते हुए कोई इसके पीछे भी आ गया तो भी संकट ही है अत: किसी प्रकार इस से सारा धन हथियाकर अपना पिंड छुड़ाना चाहिए | यह सोचकर उसने उस स्त्री से कहा नदी बड़ी गहरी है पहले मैं इस गठरी को अपनी पीठ पर लादकर उस ओर छोड़ आता हूँ फिर तुम्हे मैं अपनी पीठ पर लादकर उस और ले चलूँगा | दोनों का एक साथ चलना बेहद कठिन है | ‘ठीक है ऐसा ही करो ‘ उस स्त्री ने कहा तो ठग ने कहा ‘ अपने पहने हुए कपडे और गहने भी देदो’ ताकि नदी में चलने में कोई परेशानी नहीं हो और कपडे भीगेंगे भी नहीं तो उस मूर्ख स्त्री ने ऐसा ही किया | उन्हें लेकर ठग नदी के उस पर गया और फिर लौटकर ही नहीं आया | वह औरत अपने कुकृत्यो के कारण कंही की नहीं रही | इसलिए कहते है अपने हित के लिए कुकर्मो का मार्ग नहीं अपनाना चाहिए |

Read this?   Babaji ne Satsang main promise ke upar bataya