21.90K Views

एक सेठ ने अपने घर में साफ़ सफाई के लिए एक लड़के को नौकरी पर रख लिया लेकिन सेठ थोड़े शक्की किस्म का था और उसे लड़के की पर भरोसा नहीं था तो उसकी ईमानदारी परखने के लिए सेठ ने सेठ ने उसकी परीक्षा लेनी चाही तो फर्श पर एक रूपये का सिक्का डाल दिया तो लड़के ने जब सफाई करते समय उसे देखा तो जाकर सेठ को सौंप दिया |

Read this?   ज़िन्दगी चलती जाती है ! - zindagi chalti jaati hai true inspirational story in hindi

दूसरे दिन जब वो सफाई करने लगा तो उसने देखा कि फर्श पर पांच रूपये पड़े है इस पर उसे थोडा शक पैदा हुआ उसे लगा कि सेठ उसकी नियत को परख रहा है तो उसने जाकर पेसे सेठ को सौंप दिए और कुछ नहीं बोला  |

वो जब भी घर में काम करता था तो सेठ की निगाहे बराबर उसकी चोकसी करती | मुश्किल से एक हफ्ता बीता होगा कि उसे फर्श पर इस बार दस रूपये का नोट पड़ा मिला अब तो उसके तन बदन में आग लग गयी और सीधा सेठ के पास पहुँच गया और बोला लो संभालो अपना नोट और सम्भालों अपनी नौकरी |

Read this?   जैसा अन्न वैसा मन - Jaisa bhojan waisi soch - Short Story Radha Soami

लड़का गुस्से में सेठ से बोला कि यह समझने के लिए कि अविश्वास से विश्वास नही पाया जा सकता इसे समझने के लिए पेसे के अलावा कुछ और चाहिए जो तुम्हारे पास नहीं है | मैं ऐसे घर में काम नहीं कर सकता हूँ | सेठ उसे देखता ही रह गया और इस से पहले की सेठ कुछ कहता लड़का जा चुका था |

Read this?   धरती फट रही है - एक प्रेरणादायक कहानी

Moral of this Story : विश्वास पर दुनिया कायम है हमे बेवजह किसी पर इतना शक नहीं करना चाहिए क्योंकि शक ही विश्वास का सबसे बड़ा दुश्मन होता है |